Sunday, February 8, 2015

अकेले : माया एंजेलो





लेटे हुए, सोचती रही
कल रात
कैसे खोजूं  एक घर अपनी आत्मा के लिए
पानी जहाँ प्यासा न हो
और रोटी का निवाला पत्थर न हो
मेरे मन में आया एक ख्याल
और मैं नहीं समझती मैं गलत हूँ
कि कोई नहीं
हाँ कोई नहीं
जी सकता यहाँ अकेले

अकेले, नितांत अकेले
कोई नहीं, हाँ कोई नहीं
जी सकता यहाँ अकेले

कुछ करोड़पति हैं
उस पैसे के साथ जिसे वे इस्तेमाल नहीं कर सकते
जिनकी बीवियां भटकती हैं प्रेतात्माओं-सी
बच्चे उदासियाँ गुनगुनाते हैं
पाये हैं उन्होंने महंगे डॉक्टर
अपने पत्थर के दिल के इलाज़ के लिए
पर कोई नहीं,
नहीं, कोई नहीं
जी सकता यहाँ अकेले

अकेले, नितांत अकेले
कोई नहीं, हाँ कोई नहीं
जी सकता यहाँ अकेले

अब यदि सुनो ध्यान से

बताती हूँ तुम्हें जो है मुझे पता
एकत्र हो  रहे हैं तूफानी बादल
बस चलने ही वाली है हवा 
पीड़ा में है मानव प्रजाति
और मैं सुन सकती हूँ कराह
क्योंकि कोई नहीं
बस कोई नहीं
जी सकता यहाँ अकेले


अकेले, नितांत अकेले
कोई नहीं, हाँ कोई नहीं
जी सकता यहाँ अकेले

---माया एंजेलो

अनुवाद :  अंजू शर्मा

0 comments:

Post a Comment